Poem : My Reflection

  • 8
Reflection

Poem : My Reflection

Reflection

गुड्डियान अते पटोले,

तू क्यों छडते खेल सलोने.

जिस दिन दी तयारी रोज़ करां

उस दिन तों ही दिल क्यों डरदा

 

लाडो पुछ अपने कंगने तों

किस पिंड मुकलावे जाणा है

तैनु समझाँदी हाँ चिडिए

ईस घर ना तेरा दाना है.

 

दाना माँ मेनू दे, ना दे

खंड तीलेयाँ वांग ना कर मेनू

वीर नू दित्ता तू नाम अपना

और मेनू देस निकाला क्यों ?

 

पुत्तर नू बस नाम दित्ता है

दिल दी आस तेरे नाल लाई है

तू देस रहे, परदेस रहे

तू ही साडी परछाई है..

 Poem : माई रिफ्लेक्षन…

 

Guddiyan ate patole,

tu kyon chadde khel salone.

Jis din di tyaari roz karaan

Us din ton hi dil kyon darda

 

Lado puch apne kangne ton

Kis pind muklaave jaana hai

tainu samjhandi han chidiye

Es ghar na tera daana hai.

 

Dana maa menu de, na de

Khand tilyan wang na kar menu

Veer nu ditta tu naam apna

Aur mainu des nikala kyon ?

 

Puttar nu bas naa ditta hai

Dil di aas tere naa laayi hai

Tu des rahe, Pardes rahe

Tu hi sadi parchaai hai..

 

Poem : My reflection

 

 


Blog Stats

  • 24,658 hits

Never miss a post!

Get a notification every time I hit publish